World

13 बच्चे पैदा करने के बाद सिसक-सिसक कर रोई महिला, वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया लेकिन…

अपनी कोख से पैदा बच्चे को ताउम्र के लिए किसी और को सौंपना आसान नहीं होता. मगर ज़रा उस महिला के बारे में सोचिए जिसने ये दर्द एक-दो बार नहीं बल्कि 13 बार झेला है. 13 बार खुशी-खुशी अपनी कोख सजाई फिर खुद ही अपनी गोद उजाड़ दी. मगर एक बार उसकी बेचैनी बहुत बढ़ गई.

उस बच्चे को देखने के लिए हर रोज़ तड़पती, जिसे अपने ही हाथों किसी और को सौंपा था. बात सरोगेसी की हो रही है. दुनिया की सबसे सफल सरोगेट मां (World’s most prolific surrogate mum) का दर्जा हासिल करने वाली ब्रिटिश महिला कैरोल हॉर्लॉक (Carole Horlock) ने एक बार अपना बेटा भी दूसरे दंपति को सौंप दिया.

सरोगेसी यानि की किराए की कोख. जिसमें किसी और दंपति का बच्चा एक अन्य महिला की कोख में पलता है और पैदा होने के बाद दंपति को सौंप दिया जाता है. कैरोल सरोगेसी से खुश थी लेकिन उन्हें तब दर्द महसूस हुआ जब अपना ही नवजात बेटा किसी और दंपति को सौंपना पड़ा. सरोगेट मां के तौर पर कैरोल का नाम गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड (Guinness World Records) में दर्ज है.

दूसरे के घर भेज खुशियां, मार दी अपनी ममता

13 में से 9वीं सरोगेसी के दौरान जो बेटा पैदा हुआ उसके माता-पिता ने जन्म के 6 सप्ताह बाद DNA टेस्ट करवाया तो चौंकाने वाला सच सामने आया. ये बेटा उस दंपति का नहीं था. DNA रिपोर्ट के मुताबिक बच्चे में कैरोल के पति पॉल का DNA पाया गया. दंपति ने फौरन इसकी शिकायत सरोगेसी एजेंसी से की.

इधर जैसे ही ये बात कैरोल और पॉल को पता चली वो बच्चे को देखने के लिए तड़प उठे. उन्होंने अपनी ओर से ये प्रस्ताव भी दिया की अगर वो दंपति बच्चे को नहीं रखना चाहते तो वो उसे वापस लेने के लिए तैयार हैं. मगर इसके बाद से ही उस दंपति से कोई संपर्क नहीं पो पाया. कैरोल और पॉल की आपस में कोई संतान नहीं थी लिहाज़ा वो उस बच्चे के लिए परेशान रहने लगे.

सरोगेसी के क्या है नियम, कानून

सरोगेसी नियमों के तहत सरोगेट मां प्रेगनेंट होने तक किसी के साथ रिलेशन न बनाने के लिए बाध्य होती है. कैरोल और पॉल ने इस नियम की अनदेखी की. हालांकि कैरोल का दावा था कि उन्होंने सावधानी बरती थी. वहीं भारत में सरोगेसी अवैध है. हाल ही में संसद से पास बिल के मुताबिक अब कोई भी विदेशी, नॉन रेजिडेंट इंडियन, पर्सन्स ऑफ इंडियन ओरिजिन, ओवरसीज सिटीजंस ऑफ इंडिया कोई भी भारत में सरोगेसी के लिए अधिकृत नहीं हैं.

भारत में बड़े शहरों से लेकर बॉलीवुड तक में सरोगेसी मदरहुड का ट्रेंड सा चल निकला था. बहुत जगह ये एक कमर्शियल बिजनेस बन गया था, जिसे लेकर भारत में कानून की मांग होने लगी थी. भारत में सरोगेसी अब गैरकानूनी है.

पूरी खबर देखें

संबंधित खबरें

error: Sorry! This content is protected !!

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker