Tuesday, May 17, 2022
HomeWorldचुपके से सामने आ गई 'मौत की घाटी' की तस्वीरें, दुनिया की...

चुपके से सामने आ गई ‘मौत की घाटी’ की तस्वीरें, दुनिया की नजरों से छिपाना चाहता था ये देश!

दुनिया में ऐसी कई जगहें हैं, जिन्हें रहस्यमई (Mysterious Places In World) बताया जाता है. इन जगहों पर होने वाले अजीबोगरीब घटनाओं के पीछे का लॉजिक कई लोगों की समझ से बाहर है. इन जगहों पर कुछ ऐसा होता है जिसे नॉर्मल भाषा में समझाया नहीं जा सकता है.

बरमूडा ट्रायंगल (Bermuda Triangle) के बारे में तो कई लोगों को जानकारी है. लेकिन ऐसी कुछ और जगहें भी हैं, जिनका राज आज तक सामने नहीं आ पाया है. ऐसी ही एक जगह रुस में है. ये देश इस जगह के बारे में बात करने से बचता है. लेकिन अब सोशल मीडिया पर इसकी फोटोज ही सामने आ गई है.

वैली ऑफ डेथ (Valley Of Death) के नाम से मशहूर इस जगह के बारे में कहा जाता है कि यहां कई रहस्यमई मौतें हो चुकी हैं. ऐसी कई घटनाओं का ये जगह साक्षी है, जिसके पीछे की वजह कोई नहीं जान पाता. ये रुस के ईस्ट में स्थित है. ज्वालामुखी का केंद्र इस जगह के ऊपर बिछी सफ़ेद बर्फ की चादर देख भले ही इसका नजारा मनमोहक लगता है लेकिन जो भी इसकी घाटी में जाता है वो जिन्दा बाहर नहीं आता.इस जगह को जानवरों का कब्रगाह कहा जाता है.

- Advertisement -

लेकिन इंसानों के लिए भी ये उतना ही खतरनाक है. शायद यही वजह है कि रुसी सरकार ने इस जगह पर इंसानों की एंट्री बंद करवा दी है. कहा जाता है कि जब इस जगह पर बर्फ पिघलती है, तब यहां कई तरह के जानवर शिकार पर निकलते हैं.

- Advertisement -

लेकिन सबसे ताज्जुब की बात ये है कि ये शिकारी ही जल्द मौत के मुंह में समा जाते हैं. ये कैसे मरते हैं, इसका राज कभी सामने नहीं आ पाया. डरावनी बात ये है कि ठंड की वजह से जानवरों की लाश यहां प्रिजर्व हो जाती है. किसी की भी बॉडी पर चोट के निशान नहीं है. ये यूं ही मर जाते हैं.

इस जगह के बारे में कई किस्से सुने-सुनाए जाते हैं. जैसे कि ये जगह बीसवीं सदी से पहले लोगों की नजर से दूर थी. कहा जाता है कि 1930 में दो शिकारी इस जगह पर सबसे पहले गए थे. वहां कई जानवरों की लाश देख दोनों हैरान रह गए. इसके कुछ देर बात दोनों के ही सिर में भीषण दर्द होने लगा.

वहां से भागने के कारण हो उनकी जान बच पाई. नीचे उतरकर शिकारियों ने इस जगह की जानकारी बाकि लोगों को दी. कहा जाता है कि अभी तक इस घाटी में गए करीब 80 लोगों की मौत हो चुकी है.

एक्सपर्ट्स का कहना है कि ज्वालामुखी से निकलने वाले खतरनाक धुंए की वजह से जानवरों और इंसानों की मौत हो जाती है. हालांकि, अभी तक इसका कोई पुख्ता सबूत नहीं मिला है. लेकिन रुस इस जगह के बारे में किसी से बातचीत नहीं करता. वो इसे पूरी तरह सीक्रेट रखे हुए है.

hind morcha news app

Most Popular