Uttar Pradesh

UP Election Result 2022: यूपी चुनाव में विपक्ष की जातीय गोलबंदी में भी नहीं घिरा योगी आदित्यनाथ का विजय रथ, जानिए वजह

लखनऊ। लगातार दो बार, पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में वापसी करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 37 साल बाद भाजपा को उत्तर प्रदेश की सत्ता पर काबिज करने का रिकार्ड रचा है। यह तथ्य परिणाम के बाद कई बार सामने आ चुका है, लेकिन राजनीतिक पंडितों का विमर्श इस पर भी केंद्रित है कि पश्चिम से पूरब तक इतनी मजबूत जातीय गोलबंदी के बावजूद सपा क्यों ढेर हो गई?अगले लोकसभा चुनाव के लिए बांहें चढ़ा रही कांग्रेस और बसपा का यह हश्र क्यों?

नतीजों की समीक्षा इस निष्कर्ष पर पहुंच रही है कि योगी आदित्यनाथ ने जातीय गोलबंदी को ‘सुशासन’ के शस्त्र से भेदा तो लाभार्थीपरक योजनाओं में मजबूत डिलीवरी सिस्टम से जनता का विश्वास जीत लिया।विपक्ष की आशाओं को पूरी तरह से ध्वस्त करने वाले सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस सफलता का श्रेय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनकी जनउपयोगी नीतियों को दिया है।

इस पर सहमति जताते हुए जानकार जोड़ते हैं कि मोदी के ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास’ के सुशासन के सिद्धांत को अंगीकार करते हुए योगी ने अपने मजबूत डिलीवरी सिस्टम से धरातल पर उतारा। उसी पर जनता ने विश्वास की फिर से मुहर लगा दी है।

वह मानते हैं कि मोदी-योगी के शासन के सकारात्मक पक्ष को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के बेजोड़ प्रबंधन ने इतनी मजबूती दी कि विपक्ष के सपने ध्वस्त हो गए। माना जा रहा है कि लाभार्थी वर्ग ने इस विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ी भूमिका निभाई है। विभिन्न योजनाओं का लाभ पाने वाली महिला, आदिवासी, दलित, ओबीसी और अल्पसंख्यकों को मिलाकर ऐसा मजबूत लाभार्थी वोटबैंक तैयार हुआ, जिसके सामने सपा-बसपा जैसे दलों के जातिगत वोटबैंक काफी बौने साबित हुए।

आंकड़े इस तर्क को मजबूत करते हैं। यूपी में 15 करोड़ से अधिक लोगों को योगी सरकार ने पीएम आवास योजना, खाद्यान्न योजना, शौचालय, उज्ज्वला योजना का लाभ मुहैया कराया है। सपा-बसपा सरकारों के समय बिजली संकट एक मुद्दा था तो इस बार गांव-गांव निर्बाध बिजली की बात जुबान पर थी। दावा यह भी किया जा रहा है कि 18 प्रतिशत ज्यादा महिलाओं ने भाजपा को वोट दिया है।

महिलाओं के यूं भाजपा की ओर झुकाव का कारण बताया जा रहा है कि शौचालयों के निर्माण ने इसमें खास भूमिका निभाई है। प्रदेश में रिकार्ड संख्या में शौचालयों का बनना महिलाओं के लिए केवल सफाई का मुद्दा नहीं था, बल्कि यह उनके लिए सुरक्षा और अस्मिता का मुद्दा बन गया।

इसी से प्रभावित ग्रामीण इलाकों में महिलाओं ने भाजपा को झूमकर वोट दिया। उज्ज्वला योजना ने भाजपा से महिलाओं को जोड़ा। बिना किसी गड़बड़ी की शिकायत के गरीबों को मिले भरपूर राशन, पक्की छत और विभिन्न योजनाओं के पैसे सीधे खाते में पहुंचने से जनता के बीच योगी के सुशासन का मजबूत संदेश गया।

यूपी विधानसभा चुनावों के परिणाम के आधार पर राजनीतिक समीक्षक यह मान रहे हैं कि नए यूपी में अब जात-पात की राजनीति के बजाए विकास और सुशासन को महत्व मिलने लगा है। भाजपा को वर्ष 2017 में प्राप्त 39.67 प्रतिशत की तुलना में इस चुनाव में मिले 41.6 प्रतिशत वोट सरकार के सुशासन के वोट बताए जा रहे हैं।

पूरी खबर देखें

संबंधित खबरें

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker