Saturday, January 29, 2022
HomeUttar Pradeshसपा सिर्फ यादवों की पार्टी नहीं, भाजपा में टूट से अखिलेश की...

सपा सिर्फ यादवों की पार्टी नहीं, भाजपा में टूट से अखिलेश की बदलेगी छवि?

लखनऊ : चुनाव आयोग द्वारा पिछले सप्ताह चुनाव कार्यक्रम की घोषणा करने से पहले कहा जा रहा था कि उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ ‘ब्राह्मणों में गुस्सा’ है। भगवा पार्टी के लिए इसे एक बड़ी चुनौती के रूप में देखा जा रहा था। चुनावों की घोषणा के बाद अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) से आने वाले तीन मंत्रियों ने दो दिनों में योगी कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है। इसके बाद यूपी बीजेपी में ‘विद्रोह’ की चर्चा शुरू हो गई है।

स्वामी प्रसाद मौर्य और दारा सिंह चौहान ने योगी सरकार से इस्तीफा यह कहते हुए दिया कि उत्तर प्रदेश में दलितों, पिछड़े वर्गों, बेरोजगार युवाओं, किसानों और छोटे और मध्यम व्यापारियों की उपेक्षा की जा रही है। दोनों के इस्तीफे का लहजा लगभग एक जैसा ही था। हालांकि, ट्विटर पर लोगों ने इसके लिए मजे भी लिए। इसके अलावा आज एक और मंत्री धर्म सिंह सैनी ने भी इस्तीफा दे दिया।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्विटर के जरिए तीनों ‘बागी’ मंत्रियों का अपनी पार्टी में स्वागत किया है। इन तीनों पूर्व मंत्रियों के लिए ट्वीट में सम्मान के भाव थे। अखिलेश ने अपने संदेश में “सामाजिक न्याय” की बात कही है।

- Advertisement -

आपको बता दें कि 1990 के दशक की शुरुआत में मंडल आयोग की रिपोर्ट लागू होने के बाद उत्तर प्रदेश और बिहार में सामाजिक न्याय की पकड़ थी, जिसमें अखिलेश यादव के पिता और समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव का उदय हुआ। उन्होंने उत्तर प्रदेश के चुनावों में ओबीसी को वोट बैंक के रूप में प्रमुखता दी।

- Advertisement -

अतीत की कांग्रेस की सोशल इंजीनियरिंग ने समाजवादी पार्टी के ओबीसी-मुस्लिम निर्वाचन क्षेत्र और मायावती की बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के दलित वोट बैंक को रास्ता दिया।

यूपी में गैर यादव ओबीसी वोट

2014 के लोकसभा चुनाव और उत्तर प्रदेश में बाद के चुनावों के दौरान समाजवादी पार्टी के गैर-यादव ओबीसी मतदाताओं और बसपा से गैर-जाटव दलित वोटों को काटने में भाजपा को कई साल लगे। इसमें सबसे अधिक मदद मोदी लहर से मिली। बीजेपी ने 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव और 2017 के उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में जीत हासिल की।

गैर यादव ओबीसी वोट पर बीजेपी की पकड़

इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में ओबीसी लगभग 35-37 प्रतिशत मतदाता हैं। यादव मतदाता करीब 10-12 प्रतिशत हैं। उन्हें ओबीसी श्रेणी की जातियों में प्रमुख मतदाता माना जाता है। बीजेपी ने 2014 और 2019 के बीच के चुनावों में बाकी 25 फीसदी यानी गैर यादव ओबीसी वोटों पर ध्यान केंद्रित किया।बीते तीन चुनावों में भाजपा को मिली बढ़त

सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ डेवलपिंग सोसाइटीज (सीएसडीएस) के सर्वेक्षणों से पता चला है कि 2009 और 2014 के लोकसभा चुनावों के बीच भाजपा ने ओबीसी वोटों में 12-14 प्रतिशत की वृद्धि हासिल की। उन्होंने 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों और 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान ओबीसी मतदाताओं पर अपना दबदबा बनाए रखा। भगवा पार्टी को 45 प्रतिशत वोट मिले।

यादव वोट पर आज भी अखिलेश की पकड़

2017 के विधानसभा चुनाव में जब समाजवादी पार्टी भाजपा से हार गई, तब भी अखिलेश यादव की पार्टी को 66 प्रतिशत यादव वोट मिले। लेकिन गैर यादव ओबीसी जाति वर्ग में बीजेपी को करीब 60 फीसदी वोट मिले। गैर-जाटव दलित वोटों के लिए भी बदलाव समान था।

मायावती की बसपा को अभी भी 86 फीसदी जाटव और 43 फीसदी गैर-जाटव दलित वोट मिले, लेकिन बीजेपी को 31 फीसदी गैर-जाटव वोट मिले।

अखिलेश की नजर मतदाताओं की ‘घर वापसी’ पर

समाजवादी पार्टी इन दिनों भाजपा से गैर-यादव ओबीसी नेताओं को अपने पाले में करने में जुटी है। अखिलेश की कोशिश ओबीसी वोट बैंक को वापस लाने की दिशा में है। पार्टी को उम्मीद है कि उत्तर प्रदेश के 20 प्रतिशत मुस्लिम मतदाता उनके पक्ष में वोट करेंगे। आपतको बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाल ही में बयान दिया था कि यह चुनाव 80 प्रतिशत बनाम 20 प्रतिशत के बीच की लड़ाई है।

क्या स्वामी प्रसाद मौर्य ऐसा कर सकते हैं?

स्वामी प्रसाद मौर्य ने अपने मीडिया साक्षात्कारों में दावा किया है कि वह उत्तर प्रदेश के राजनीतिक मौसम को दूसरों की तुलना में बेहतर समझते हैं। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने मायावती का साथ दिया, तो वह 2007 में उत्तर प्रदेश में सत्ता में आईं और जब उन्होंने भाजपा में प्रवेश किया, तो पार्टी ने 2017 में अपना “निर्वासन” समाप्त कर दिया।

मोदी लहर में भी मौर्य के बेटे को मिली थी हार

स्वामी प्रसाद मौर्य को उत्तर प्रदेश की ओबीसी राजनीति में एक “बड़ा चेहरा” माना जाता है। लेकिन उनके समर्थक भी उनके प्रभाव क्षेत्र को पूर्वी उत्तर प्रदेश में देखते हैं, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ दोनों के चुनावी क्षेत्र भी हैं। उनके बेटे अशोक मौर्य ने मध्य उत्तर प्रदेश के उन्नाव से चुनाव लड़ा था।

उनकी बेटी संघमित्रा मौर्य पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बदायूं से भाजपा के टिकट पर लोकसभा सांसद हैं। स्वामी प्रसाद मौर्य 2007 के विधानसभा चुनाव में अपनी सीट जीतने में असफल रहे थे, जिसके लिए उन्होंने इसका श्रेय लिया। बाद में उन्होंने उपचुनाव जीता और मायावती सरकार में मंत्री बने।

आपको बता दें कि 2017 में उत्तर प्रदेश में भाजपा की लहर के बावजूद, वह चुनाव में अपने बेटे की जीत को सुरक्षित नहीं कर सके। यह भी कहा जा रहा है कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया क्योंकि पार्टी ने विधानसभा चुनाव में उनके बेटे को फिर से मैदान में उतारने की उनकी मांग को स्वीकार करने से इनकार कर दिया।

हालांकि, स्वामी प्रसाद मौर्य के बारे में कहा जाता है कि वे उत्तर प्रदेश के आगामी चुनावों को प्रभावित करने के लिए लगभग 50-60 विधानसभा क्षेत्रों में प्रभाव रखते हैं।

hind morcha news app

Most Popular