Uttar Pradesh

कोख से बच्चे पैदा कर दूसरों को सौंप देती है मां, कभी नहीं हुआ बिछड़ने का गम !

किसी भी महिला के लिए मां (Motherhood) बनने जैसा खास अनुभव दूसरा नहीं होता. बच्चे के हाथ में आने के बाद से उसके बड़े हो जाने तक उसके हर छोटे-बड़े सफर में मां उसके साथ होती है. इसके विपरीत एक ब्रिटिश मां का शौक ही अलग है. वो बच्चों अपनी कोख में पालती ज़रूर है, लेकिन पैदा होते ही उन्हें दूसरों को सौंप देती है.

लॉरा मैककार्थी (Laura McCarthy) नाम की महिला हडर्सफील्ड ( Huddersfield) में रहती है. वो अपनी कोख से अब तक 9 बच्चों को जन्म दे चुकी हैं और अब वे 10वें बच्चे को भी अपनी कोख में पाल रही हैं. 9 बच्चों में से सिर्फ 4 बच्चे उनके अपने हैं, जबकि बाकी के 5 बच्चे वे दूसरे माता-पिता को दे चुकी हैं. वे अपने इस काम को दुनिया में सबसे अच्छा काम बताती हैं.

सरोगेसी को बनाया बिजनेस

Mirror के मुताबिक 33 साल की लॉरा ने 11 साल पहले दूसरे के बच्चे अपनी कोख में पालने का काम शुरू किया. तब तक उनके अपने 4 बच्चे हो चुके थे. वे कहती हैं कि जब वे खुद के पैदा किए हुए बच्चों को दूसरे माता-पिता को सौंपती हैं और उनकी आंखों में खुशी देखती हैं, तो उन्हें बहुत अच्छा लगता है. उन्होंने सभी 5 बच्चों को इन विट्रो फर्टिलाइज़ेशन (IVF) के ज़रिये जन्म दिया है.

साधारण भाषा में उन्होंने अपनी कोख को उन माता-पिताओं के लिए उधार दिया, जो बच्चे नहीं पैदा कर सकते थे. ExaminerLive से बात करते हुए उन्होंने बताया कि उन्हें मां बनना दुनिया का सबसे अच्छा काम लगता है. इस तरह वे दूसरों के वे सपने पूरे करती हैं, जो वे खुद पूरे नहीं कर पाते.

टीवी से प्रेरित होकर शुरू किया काम

लॉरा ने सरोगेट मदर बनने का फैसला एक टीवी कार्यक्रम को देखने के बाद शुरू किया था. जब उनके अपने 2 बच्चे थे, तब उन्होंने पहली बार सरोगेसी के ज़रिये दूसरे के बच्चे को जन्म दिया. बच्चों को उनके बायलॉजिकल माता-पिता को सौंपना एक नि:स्वार्थ काम होता है और जब बच्चे बड़े होते हैं, तो उन्हें ये पता चलता है कि वे मेरी कोख में पलकर इिस दुनिया में आए हैं.

लॉरा बताती हैं कि वे बच्चे की सुरक्षा के लिए ज़रूर चिंतित होती हैं, लेकिन जब वे दूसरे के बच्चे को कोख में पाल रही होती हैं तो ये फीलिंग वैसी नहीं होती, जैसी अपने बच्चे के लिए होती है. ब्रिटिश कानून के मुताबिक सरोगेट मदर को कपड़े, दवाएं और अन्य खर्चों के साथ पैसे भी दिए जाते हैं.

पूरी खबर देखें
Back to top button
error: Sorry! This content is protected !!

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker