Lucknow

उरे लखनऊ मंडल वीआईपी ट्रेन 12429 की हालत खस्ता , ठेकेदारों की लापरवाही दिया जा रहा है गंदे चददर एवं कंबल , यात्रियों की शिकायत पर नहीं हो रही कोई सुनवाई

लखनऊ / उत्तर रेलवे चारबाग से न्ई दिल्ली को जाने वाली 12429 एसी एक्सप्रेस बनी खस्ताहाल ,सीडीएम्ई उ.रे लखनऊ की भूमिका संदिग्ध। देखिए रेल मंत्री जी आपके बङौदा हाऊस के अधिकारी रोजाना दौङा भी करते हैं लेकिन इसका कोई प्रभाव इन भ्रष्ट अधिकारियों पर नहीं पङने वाला और सरकार का सपना है बुलेट ट्रेन चलाने का जब लखनऊ राजधानी की यह दशा है जहां से वीआईपी लोगों का मूवमेंट होता है तो अन्य स्टेशनों की क्या स्थिति होगी ये भगवान ही जानें। जबकि करोना काल के दौरान सरकार ने करोङों रुपया खर्च कर चुकी है साफ सफाई के लिए।

मिली जानकारी के अनुसार एकभुक्तभोगी रेलयात्री ने बताया कि मैं कल 19/9/22 को 12429 एसी एक्सप्रेस से लखनऊ से न्ई दिल्ली B-9 में आरक्षण था जब मुझे चददर और कंबल अटेंडेंस ने दिया देखा तो पैकेट के अंदर गंदी बेडसीट (चददर) जो पैसेंजर सीट 9व 12 पर मौजूद थी मैं जब इसकी शिकायत उक्त अटेंडेंस एवं ठेकेदार जिसका मोबाइल न०8887835481 है से किया तो उसने भी स्वीकार किया।

उक्त भुक्तभोगी रेलयात्री जो खुद विभाग का ही कर्मचारी है बताया कि मैं हफ्ते में एक बार अवश्य ही कार्य से दिल्ली जाता हूं तो मुझे बराबर यही गंदा कंबल और चददर मिलता है उसने बताया कि 8-10चददर को साफ कर देते हैं बाकी सब प्रेस करके नये पैकेट में पैकेट में पैक कर देते हैं। और सीडीएम्ई को इतना फुर्सत कहां है जो निरीक्षण करें।

इस संबंध में आधा दर्जन रेल यात्रियों ने बताया कि इतनी शिकायतें होने के बावजूद कभी भी लखनऊ मंडल का सीडीएम्ई ट्रेन पर निरीक्षण करने की जहमत नहीं उठायी क्योंकि उसे एसी कमरे से बाहर निकलने की आदत ही नहीं पङी , वह केवल आफिस में बैठकर ही ठेकेदारों से गुप्तगू करता रहता है।

इस संबंध में जब हिन्दमोर्चा ने संबंधित ठेकेदार से संपर्क किया तो उसने बताया कि मेरी इसमें कोई गल्ती नहीं है मुझे चारबाग से जो कंबल एवं चददर की लोडिंग होती है उसे मैं यात्रियों को उपलब्ध कराता हूं।

रेलवे के सूत्रों ने बताया कि चारबाग में जहां से ये चददर एवं कंबल की सफाई होती है वह सीडीएमई का चहेता बताया जाता है गजब के हैं ये रेलवे के अधिकारी इतना वेतन मिलने के बावजूद भी सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं। जबकि सरकार करोङों रुपया खर्च कर रही है एक सूत्र ने बताया कि रेलमंत्री जी जरा इन सीडीएम्ई की संपत्ति की जांच तो करवा लें।

पूरी खबर देखें

संबंधित खबरें

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker