Monday, May 16, 2022
HomeLocalलगता है अंबेडकरनगर की विधानसभा कटेहरी से सपा प्रत्याशी लालजी वर्मा को...

लगता है अंबेडकरनगर की विधानसभा कटेहरी से सपा प्रत्याशी लालजी वर्मा को भाजपा क्लीन स्वीप देने के मूड में है

रजनीश सिंह (राज्य ब्यूरो प्रमुख)

  • 1993 से 2017 तक ब्राह्मण प्रत्याशी के पराजय के बावजूद भी क्या दुबारा इन्हीं पर लगाएगी दांव

लखनऊ। लगता है जानबूझकर भाजपा कटेहरी में लालजी वर्मा को क्लीन स्वीप देने के मूड में लखनऊ अवध क्षेत्र के पूर्वी छोर पर स्थित अंबेडकरनगर को पार्टी जानबूझकर कमजोर रखना चाहती है 2002 में चुनाव के समय जिले की कटेहरी और अकबरपुर से समझौते में देखकर पार्टी ने अपने जनाधार को सैकड़ा तक पहुंचा लिया था मोदी जी के उदय के साथ जिले में पार्टी लोकसभा का पहली बार 2014 में परचम लहरा कर विरोधी पार्टियों को यह बता दिया की अंबेडकरनगर सपा बसपा नहीं भाजपा का गढ़ है.

- Advertisement -

2017 के विधानसभा चुनाव में पार्टी ने दूसरे दल से आए प्रत्याशियों पर जलालपुर अकबरपुर और कटेहरी में दांव लगाया कि तीन के तीनों हार गए साथ ही साथ जलालपुर और अकबरपुर का प्रत्याशी पार्टी को अलविदा करते हुए बसपा का दामन थाम लिया रही बात कटेहरी विधानसभा की यहां पर विपक्षी दल के मजबूत नेताओं ने पार्टी में साठगांठ करके पहले तो यह संदेश देने का काम किया कि यहां की सीट समझौते में चला जाए.

ध्यान देने की बात है जिस निषाद पार्टी को सीट देने का हल्ला यहां मचाया गया है उसका कोई संगठन शायद ही कटेहरी विधानसभा के धरातल पर देखने को मिले 1991 में कटेहरी विधानसभा सीट से पूर्व मंत्री अनिल तिवारी जी ने भाजपा का परचम फहराया था उसके बाद से 93 1996 2002 2007 2012 2017 में पार्टी ने समझौते अथवा अपने सिंबल पर ब्राह्मण प्रत्याशी को लड़ाया सबको मुंह की ओर खानी पड़ी ध्यान देने योग्य बात है.
- Advertisement -

2009 के परिसीमन के बाद कटेहरी विधानसभा का भूगोल बिगड़ जाने के कारण अब वहां भाजपा से सामान्य ब्राह्मण प्रत्याशी का जीतना आसान नहीं है साथ ही साथ जब बहुजन समाज पार्टी ने पूर्व विधायक पवन पांडे के बेटे प्रतीक को मैदान में उतारा हो ऐसे में भाजपा पुनः ब्राह्मण चेहरे पर दाव लगाना पार्टी के लिए आत्मघाती सिद्ध हो सकता है.

अब देखना है कि कार्यकर्ताओं के बीच सर्वे का ढिंढोरा पीटने वाली विश्व की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी कार्यकर्ताओं और जनता की आवाज को सुनते हुए अति पिछड़ी जाति पर दाव लगा कर सपा के कद्दावर नेता को चुनाव में कड़ी टक्कर दे कर पर पराजय के स्वाद का अनुभव कराती है अथवा गणेश परिक्रमा करने वाले लोगों को देकर सपा प्रत्याशी लालजी वर्मा को क्लीन स्वीप देकर विधानसभा जाने का रास्ता साफ कर देती है अथवा नहीं ये आने वाला वक्त ही बतायेगा।

hind morcha news app

Most Popular