LocalPoliticsUttar Pradesh

महिला संवाद कार्यक्रम में पहुंचीं प्रियंका गांधी, आधी आबादी पूछ रही वादों की क्या है गारंटी

आगरा (HM News)। प्रियंका गांधी वाड्रा ने फीरोजाबाद के सिरसागंज में नारा लगवाकर शुरू किया महिला संवाद। महिलाओं की भीड़ से आई श्वेता ने पूछा आपके वादे की गारंटी क्या है। इस पर प्रियंका बोलीं इसीलिए मैं चाहती हूं कि महिलाएं समझें कि किस तरह की राजनीति हो रही है। इसे बदलें। हम अपनी घोषणाएं पूरी करने का वचन दे रहे हैं। हम गारंटी कार्ड घर घर भेज रहे हैं। गृहणी नेहा ने कहा कि प्रियंका जी ने महिलाओं के लिए नारा दिया है। समस्याएं तो तब खत्म हो जाएंगी जब आप सत्ता में आएंगी। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका ने महिलाओं को साल में तीन सिलेंडर मुफ्त देने। गांव में महिलाओं के लिए रोजगार देने और महिलाओं के संम्मान की बात छेड़ी।

फीरोजाबाद में चूड़ियां बनाने का काम करने वालीं शाइन ने पूछा कि ऐसा कुछ करें कि गांव गांव महिलाओं को रोजगार मिले और बराबरी का हक मिले। प्रियंका बोलीं ये मेहरबानी नहीं आपका हक है। हम भर्तियां कैसे करेंगे रोजगार। कैसे देंगे इस पर प्लान तैयार किया जा रहा है। जल्दी जारी होगा। यूपी में बड़ी संख्या में नौकरियां खाली हैं। जो परीक्षाएं रदद् हो गई हैं। उन पर प्लान बनाएंगे।

अधिवक्ता रीना कुशवाहा ने पूछा कि अधिवक्ताओं के लिए किसी सरकार ने नहीं सोचा। कभी भी हत्याएं हो जाती हैं। न पेंशन है और न सुरक्षा। इसके लिए कुछ करें। प्रियंका ने धन्यवाद दिया। पुलिसभर्ती में 25 फीसद भर्ती होगी मुफ्त कानूनी सहायता दी जाएगी। महिलाओं के साथ होने वाले अपराध पर कार्रवाई कड़ी होगी। नीतू ने सवाल किया कि महिला आरक्षण बिल अब तक संसद से पास नहीं हुआ है। प्रियंका बोलीं हम ये बिल लेकर आए थे। हम सरकार को मजबूर करेंगे। हमने 40 फीसद टिकट की घोषणा की तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महिलाओं की रैली की। अखिलेश ने वादे किए।

आशा समूह की मनीषा ने कहा कि आंगनबाड़ी की तरह हमारी समस्या है। 24 घण्टे काम करना होता है। अपने बच्चों को नहीं देख पाते हैं। हमें सम्मान मिले। प्रियंका बोलीं आप सभी ने बहनों की समस्याओं को सुना। सबका कहना है कि शोषण हो रहा है। ये सरकार महिलाओं के हक को नकारती है। महिलाओं की शक्ति नहीं समझ रही। एक सिलेंडर दे दिया ये नहीं पूछा दूसरा कहां से आएगा। घोषणाएं की जाती हैं पूरा नहीं किया जाता। अब महिलाओं को नकारा नहीं जा सकता। महिलाओं के जन्म से ही संघर्ष शुरू होता है। पढ़ाई के लिए संघर्ष करना पड़ता है।

इसके बाद शादी के बाद नया संघर्ष होता है। अब शक्ति दिखानी होगी। प्रियंका ने आगे कहा कि आज आवाज आपकी बुलंद हुई है। सरकार अब आशा और आंगनबाड़ी का मानदेय बढ़ा रही है। हर पीएचसी पर महिला डॉक्टर बहनों के लिए हैं। दक्षता के लिए ट्रेनिंग सेंटर बनाएंगे। 20 लाख रोजगार देंगे इनमें से 8 लाख महिलाओं को देंगे। 40 फीसद महिलाओं को टिकट देंगे इससे राजनीति में महिलाओं की भागीदारी बढ़ेगी। नेता घोषणा करके चले जाते हैं। इसमें आपकी भी गलती है। जब वोट की बारी आती है तो आप जातियों में बंट जाते हैं।

नेताओं की जवाबदेही तय करनी होगी। आपने बच्चों के भविष्य की सोचिए। हमारी पार्टी नकारात्मक नहीं सिर्फ सकारत्मक बातें कर रही है। हम आपके लिए क्या करेंगे ये बताएंगे। चूड़ी बनाती महिला को एक तोड़े के 3 रुपये मिलते हैं। महंगाई में कैसे होगा। प्रधानमंत्री अपने उद्योगपति मित्रों को सरकारी संस्थाएं दे रहे हैं। जब प्राइवेट कंपनियां आएंगी तो आरक्षण कैसे मिलेगा। महिलाएं आएंगी तो बदलाव लाएंगी। अपनी शक्ति को पहचानो। लड़की हूं का नारा चुनावी नहीं है। आपके लिए है। आपको सशक्त करने के लिए है। देश के हर घर में महिलाएं हैं। सब एकजुट हो जाएं। महिलाओं से संवाद समाप्त करने के बाद कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव महिलाओं से व्यक्तिगत मुलाकात कर रही हैं।

पूरी खबर देखें

संबंधित खबरें

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker