Ayodhya

NR मंडल : रेल प्रबंधक सख्त, भ्रष्ट अधिकारियों एवं कर्मचारियों में दहशत का माहौल

  • NR मंडल : रेल प्रबंधक सख्त, भ्रष्ट अधिकारियों एवं कर्मचारियों में दहशत का माहौल
  • काश! ऐसे अधिकारियों की तैनाती यहां के अलावा जिलों में भी होने को लेकर जनमानस में चर्चा

लखनऊ। गजब की है सरकार मोदी एवं योगी की जहां भ्रष्टाचार को लेकर जीरो टारलेंस नीति अपना रही है तो वहीं उत्तर रेलवे मंडल में एक ऐसा ईमानदार रेल प्रबंधक आये हुए हैं जिनके शख्ती से भ्रष्टाचारियों में बौखलाहट है।
उक्त रेल प्रबंधक की कार्यशैली पूरे मंडल में चर्चा का विषय बना हुआ है,और दर्जनों भ्रष्टाचारी बाबू एवं हितनिरीक्षक पैसा लेने के लिए कर्मचारियों से हाथ पैर मार रहे हैं और सभी के अवैध कमाई पर लगाम लगनी शुरू हो चुकी है। रेलवे के अधिकृत सूत्रों के अनुसार विगत दिवस पुलिस भर्ती की जो परीक्षा संपन्न हुई थी मंडल रेल प्रबंधक अपने कर्मचारियों के साथ चौबीसों घंटे सक्रिय रहे। वो अलग बात है कि परीक्षा निरस्त हो गयी। इसके बाद गत दिवस महिला सशक्तिकरण में मंडल रेल प्रबंधक ने जमकर भूमिका निभाई। रेलवे के अधिकृत सूत्र ने बताया कि रेल प्रबंधक अब भ्रष्टाचारियों के काले कारनामों को खंगालना शुरु कर दिये है जिसमें दर्जनों मैकेनिकल ओएंडएफ ( आरईएसओ) विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारियों की फौज शामिल है। इसके अलावा मंडल रेल प्रबंधक खुद मंडल के कर्मचारियों के लिए अपना दरवाजा खोल रखा है और खुद मौके पर बुलाकर पूंछते हैं। सबसे मजे की बात तो ये है कि सवेरा होते ही डीआरएम अकेले चारबाग स्टेशन भ्रमण करना शुरू कर देते हैं जिससे भ्रष्टाचारियों एवं कामचोरों में भय व्याप्त हो गया है। बताया तो यहां तक जाता है कि कुछ भ्रष्टाचारी मेडिकल लेकर घर बैठे हुए हैं। एक हित निरीक्षक ऐसा है जो मुकेश बहादुर सिंह तत्कालीन सीडीपीओ का दलाल था और एक नेताजी का गुर्गा बताया जाता है। मृतक आश्रित कोटा में खुलेआम लाखों वसूलता था वरिष्ठ मंडल कार्मिक अधिकारी अमित पांडेय ने इनका पर ही काट दिया। इसके खिलाफ विजिलेंस जांच भी लंबित है। गजब के है मंडल रेल प्रबंधक आम जनता में यही चर्चा है। काश ही इसी तरह से अधिकारी जिलों में भी आयें।

पूरी खबर देखें

संबंधित खबरें

error: Sorry! This content is protected !!

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker