Ayodhya

शिव बाबा धार्मिक स्थल के निर्माण कार्यों में मानकों की अनदेखी कर रहे जेई व ठेकेदार

  • पीले ईंट, सफेद बालू और मानक के विपरीत सीमेन्ट का हो रहा है प्रयोग
  • धार्मिक स्थलों के निर्माण कार्यों में भी ठेकेदार व जेई जुटे हैं भ्रष्टाचार में
  • इस तरह के निर्माण कार्यों में अधिकारियों द्वारा अनदेखी करने को लेकर उठ रहे सवाल

अम्बेडकरनगर। मुख्यमंत्री जी, आपकी सरकार में जेई और ठेकेदार द्वारा धार्मिक स्थलों के निर्माण कार्यों में भी भ्रष्टाचार करने में कोई परहेज नहीं कर रहे हैं। आखिर समूचे देश में धर्म के नाम पर लोगों की आस्था इतनी गहरी होने के बावजूद भी यह सरकारी तंत्र के साथ-साथ ठेकेदार भी धार्मिक स्थलों को लूटने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

बताते चलें कि जिला मुख्यालय से महज कुछ ही दूरी पर नगर पालिका क्षेत्र में ही शिव बाबा का धार्मिक स्थल है। जहां पर प्रत्येक शुक्रवार और सोमवार को हजारों की संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने के साथ-साथ वैवाहिक जोड़े भी एक सूत्र में बंधते हैं। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पर्यटक स्थलों का सौंदर्यीकरण काफी जोरों पर किया जा रहा है। इस सौंदर्यीकरण के अंतर्गत धार्मिक स्थल शिव बाबा में पर्यटन विभाग द्वारा उत्तर प्रदेश प्रोजेक्ट कारपोरेशन इकाई अयोध्या को निर्माण कार्य करने की जिम्मेदारी सरकार द्वारा मिल गई।

क्षेत्रीय लोगों के साथ-साथ शिव बाबा स्थान पर आने वाले श्रद्धालुओं को भी यह लगा कि सरकार ने बहुत अच्छा काम करने का निर्णय लिया है। परंतु प्रोजेक्ट कारपोरेशन में तैनात जेई और ठेकेदार ने धार्मिक स्थल के निर्माण कार्य में घटिया ईट व सफेद बालू से निर्माण कार्य जोरों पर कराया जा रहा है आखिर कब तक यह भ्रष्टाचार के पुजारी इस तरह से सरकार की आंखों में धूल झोंकते हुए भ्रष्टाचार करते रहेंगे।

निर्माण कार्य स्थल पर मोरंग सिर्फ दिखावे के लिए रखा गया है। इस संबंध में जब मौके पर उपस्थित मजदूरों से बात हुई तो उन्होंने बताया कि सरकारी काम लगभग इसी तरह से होता है। फिलहाल ठेकेदार द्वारा जो भी सामग्री हमें दी गई है हम उसी से निर्माण कर रहे हैं। जेई अक्सर आते हैं लेकिन निर्माण कार्यों को लेकर कभी उन्होंने कुछ नहीं कहा।

वैसे जिले ही नहीं प्रदेश में भी कहीं पर अगर देखा जाए तो कार्य संस्थाओं द्वारा जो भी काम कराया जा रहा है उसमें आए दिन उंगली तो उठी रही है इसका सबसे बड़ा कारण यही है की निर्माण कार्य में प्रत्येक जगह घटिया सामग्री के साथ-साथ बहुत ज्यादा अनियमितताएं मिलती रहती हैं लेकिन संबंधित विभागीय अधिकारी भी अनियमितता मिलने के बावजूद भी मामले को रफा दफा करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते हैं।

लेकिन शिव बाबा निर्माण कार्य में संबंधित जेई व ठेकेदार भी धार्मिक स्थल के कार्य में भी भ्रष्टाचार करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। ऐसे ही भ्रष्टाचार की देन रही तो जल्द ही जवा ठेकेदार अरबपतियों की श्रेणी में पहुंच जाएंगे। वहां मौजूद कुछ लोगों से इसके बारे में जब बात की गई तो उन्होंने बताया कि इस भ्रष्टाचार के खिलाफ जल्द ही जिलाधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री तक शिकायत की जाएगी।

पूरी खबर देखें

संबंधित खबरें

error: Sorry! This content is protected !!

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker