Ayodhya

जमीन धोखाधड़ी की शिकार रागिनी को एसपी के आदेश बावजूद नहीं मिला न्याय,फिर लगाई गुहार

  • जमीन धोखाधड़ी की शिकार रागिनी को एसपी के आदेश बावजूद नहीं मिला न्याय,फिर लगाई गुहार
  • पीड़िता को न्याय न मिलने में अहिरौली थाने के दलाल बने बाधक,पीड़िता ने लगाये आरोप

अंबेडकरनगर। थाना अहिरौली दलालों के हवाले हो गया है। इन दलालों के चलते जमीन धोखाधड़ी की शिकार पीड़िता रागिनी को न्याय नहीं मिल पा रहा है जब कि मामले को संज्ञान में लेते हुए एसपी ने आदेश भी निर्गत किया है लेकिन पुलिस के लिए कोई मायना नहीं है। निराश होकर पीड़िता ने फिर न्याय की गुहार लगाई है।
बताते चलें कि अहिरौली थाना क्षेत्र के यरकी गांव निवासी रागिनी अपने मामले को लेकर कई महीनो से अहिरौली थाने के चक्कर काट रही है। लेकिन थानाध्यक्ष है कि सुनने को तैयार नहीं यह वही थाना अध्यक्ष है जिनकी कस्टडी में एक आशिक फुरर हो जाता है। बिजली की हाई टेंशन खंभे पर चढ़ जाता है और उसको उतारने के लिए उप पुलिस अधीक्षक तक को भी कड़ी में मशक्कत करनी पड़ती है। वहीं सूत्रों की माने तो इस थाना क्षेत्र में कुछ ऐसे दलाल है।

जिनकी पकड़ सीधे थाना अध्यक्ष से है। उनके सामने आम जनता कि सुनवाई नहीं होती वही जमीन देने के नाम पर ऐसा ही एक फितरती किस्म के व्यक्ति ने किया लाखों की ठगी बैनामा करने से भी करता है इनकार पैसा और जमीन दोनों ही देने से कर रहा इनकार। न्याय न मिलने पर पुनः पीड़िता पहुंची पुलिस अधीक्षक के दरबार। और अपनी व्यथा को पुलिस अधीक्षक के सामने बयान करते हुए फिर से न्याय की फरियाद किया।

शिकायती पत्र के माध्यम से यह बताया कि मेरे ही गांव के रहने वाले विपक्षी रामअवतार पुत्र पूर्णमासी अपनी जमीन देने की बात करके मुझे से पैसे की मांग की रागिनी के खाते में जो भी पैसे थे उसने उसके खाते में ट्रांसफर किया बाकी के बचे ज्यादा पैसे अपने रिश्तेदारों और अन्य सहयोगीयो से कर्ज लेकर के पैसे नगद दिया । रामअवतार को लाखों रुपये से ज्यादा दे चुकी है। जिस जमीन के लिए रागिनी ने पैसा राम अवतार को दिया है अब बैनामा करने से इनकार कर रहा है। और पैसे भी वापस नहीं देना चाहता है।

रागिनी ने जब अपना पैसा वापस मांगा तो रामअवतार गाली गलौज करते हुए मारपीट करने पर आमादा हो गया पीड़िता रागिनी ने इसकी सूचना संबंधित थाने में दी और थाने की पुलिस पहुंची तो राम अवतार ने अपनी सारी बातों को कबूल किया और एक समझौते के आधार पर पीड़िता के सारे पैसे वापस देने की बात कही।

परंतु कुछ दिन बीत जाने के बाद रागिनी ने जब अपना पैसे मांगा तो राम अवतार ने गाली गलौज करते हुए हरिजन एक्ट में फसा देने की धमकी दी और पैसे वापस न देने की बात कही जबकि पीड़िता महिला इसके पहले भी पुलिस अधीक्षक से शिकायत की थी और थाने में अनेकों बार यह शिकायत किया था। लेकिन राम अवतार का थाने पर अच्छी पकड़ होने के नाते कार्यवाही नहीं करना चाहते अहिरौली थानाध्यक्ष अब सवाल यह उठता है कि पीड़ित महिला दो बार पुलिस अधीक्षक से न्याय की फरियाद की है और अभी तक न्याय नहीं मिल सका क्या ऐसे थानाध्यक्ष से महिला को न्याय मिल पाएगा।

पूरी खबर देखें

संबंधित खबरें

error: Sorry! This content is protected !!

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker