Ayodhya

किछौछा नगरीय चुनाव में मचा हलचल,किरन गुप्ता पत्नी भरत लाल गुप्ता चुनावी मैदान में

  • 👉भारतीय जनता पार्टी से पीढ़ियों का है गहरा नाता–किरन गुप्ता
  • 👉भावी प्रत्याशी भाजपा किरन गुप्ता ने नगरवासियों के लिए चुनावी मैदान में
  • 👉पति के हाथों से श्रीमद्भागवत गीता ग्रहण कर चुनावी मैदान में उतारने का लिया संकल्प
  • 👉अनारक्षित महिला सीट होने प्रत्याशियों में मची हलचल
  • 👉सभी पार्टी के प्रत्याशी उठक-बैठक करते नजर आ रहे

अंबेडकरनगर.आगामी नगरी चुनाव को लेकर सरगर्मियां अब अपने शवाब पर चढ़ने को तैयार है अभी तक अपना-अपना डंका बजाने वाले प्रत्याशियों ने क्षेत्र में खूब लुभावना प्रयास किया। गलियों में चहलकदमियां जारी रही किंतु जैसे ही आरक्षण स्पष्ट हुआ कई प्रत्याशी धराशाई होते नजर आए मानो कि इनके सीने पर सांप लोट गया हो। तमाम प्रत्याशी इस जुगत में लगे हैं कि किसे चेहरा बनाया जाए और चुनाव अपने पक्ष में लिया जाए किंतु अरमानों पर पानी फिर गया।

आरक्षण लिस्ट आने के बाद नगर पंचायत अशरफपुर किछौछा में अनारक्षित महिला सीट की खबर आते ही आग की तरह फैल गई। कहीं खुशी तो कहीं गम का नजारा देखने को मिल रहा है तो वही नगरवासियों का अरमान बरकरार रह गया भाजपा पार्टी की तरफ से भावी प्रत्याशी के रूप में भरतलाल गुप्ता(भरत भाई) को अपना चेयरमैन बनाने की चाहत नगरवासियों का कहीं न कहीं अब सफल होता नजर आ रहा है क्योंकि भरतलाल गुप्ता की पत्नी किरन देवी ने जनता की पुकार पर चुनावी मैदान में ललकार भरते हुए जनता के चेहरे पर मुस्कान लाने का काम किया है।

बताते चलें कि किरण गुप्ता पत्नी भरतलाल गुप्ता के परिवार का नाता अर्सो से भारतीय जनता पार्टी से रहा है और एक माना जाना चेहरा खुद परिवार में होते हुए राजनीतिक परिवेश से पूरी तरह से धनी है जिन्हें राजनीति के बारे में बताने की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि किरन गुप्ता पत्नी भरत लाल गुप्ता के पिता जगदंबा प्रसाद गुप्ता निवासी नवाबगंज जनपद गोंडा का राजनीतिक इतिहास भी काफी बड़ा है।

जिन्होंने महज 20 साल की उम्र में ही लगभग सन 1964 में ही राजनीति में कदम रखा और एक बेहतरीन वक्ता के रूप में भी जाने जाते हैं भाजपा के कद्दावर माने जाने नेता और मंत्रियों के बीच जुगलबंदी और भारतीय जनता पार्टी के पुरोधा स्वर्गीय अटल बिहारी बाजपेई से गहरा नाता इनके राजनीति के इतिहास को एक नया आयाम देने का काम किया।

वही जगदंबा प्रसाद गुप्ता ने भाजपा के बड़े-बड़े दिग्गज शीर्ष नेताओं के साथ मंच भी साझा कर चुके हैं जिसमें शीर्ष और कद्दावर नेता आडवाणी जी, कद्दावर नेता मुरली मनोहर जोशी, भारत के वर्तमान रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, अशोक सिंघल (विश्व हिंदू परिषद)ऐसे ही तमाम हस्तियों के साथ मंच साझा कर अपने राजनीतिक इतिहास में चार चांद लगाने का काम किया है.

इसी परिवार से जन्मी किरन गुप्ता ने आज जनता की आवाज पर एक नया इतिहास रचने के लिए राजनीति के अखाड़े में उतर चुकी हैं। समाज को किस तरह से सही दिशा में ले जाना है समाज के अंतिम व्यक्ति तक कैसे योजनाओं का लाभ और न्याय पहुंचाना है भलीभांति जानती हैं।

नगर के लोगों को ऐसे प्रत्याशी की जरूरत है जो महिलाएं की आन-बान और शान पर चार चांद लगा सके और नगर का नेतृत्व कर सके। क्योंकि हमारे देश में बड़े-बड़े शीर्ष पदों पर महिलाओं ने संविधान का पालन करते हुए अपना वर्चस्व कायम किया है।

समाज में समानता और समता का पालन कराना सभी को बराबर का हक दिलाना, बोलने का हक़ और अधिकार दिलाना समाज के एक नेतृत्वकर्ता की सबसे बड़ी जिम्मेदारी होती है। समाज को तरक्की के मार्ग पर ले जाना, जनसमस्याओं को दूर करना, योजनाओं को पहुंचाना और भ्रष्टाचार- गुंडागर्दी को नश्ते- नाबूत करते हुए एक साफ और स्वच्छ समाज का निर्माण करना ही समाज के नेतृत्वकर्ता की सबसे बड़ी जिम्मेदारी होती है। जिसको बखूबी निभाने के लिए किरन गुप्ता पत्नी भरतलाल गुप्ता इस बार नगरी चुनाव में जनता के बुलंद आवाज पर चुनावी मैदान में आ चुकी है।

भरत गुप्ता ने जनता का मान सम्मान रखते हुए अपनी धर्मपत्नी किरन गुप्ता को श्रीमद्भागवत गीता प्रदान करते हुए चुनावी रणभूमि में उतारने का फैसला कर लिया और इसी अवसर पर यह दृश्य लोगों को काफी उत्साहित करते हुए उनके मनोबल को बढ़ावा दे रही है। ऐसे ही उम्मीदवार की जरूरत है जो धर्म नीति को जानता हो और धर्म नीति का पालन करते हुए राजनीत में कदम रखते हुए समाज के कल्याण का संकल्प ले सकें।

जिस तरह से पूरे महाभारत में भगवान श्रीकृष्ण जी अर्जुन के सारथी बनकर उपदेश देते हुए रणभूमि में विजय श्री प्राप्त करने का अवसर प्रदान किया था और फिर महाभारत में कौरवों की सेना धराशाई हो गई अर्थात असत्य, अत्याचार, अधर्मीयों का नाश हुआ और सत्य एवं धर्म की जीत हुई।

उसी का स्मरण करते हुए गीता के उपदेशों का पालन करते हुए भरत गुप्ता सारथी के रूप अपनी धर्मपत्नी किरण गुप्ता के साथ खड़े हो गए हैं। भरत गुप्ता ने कहा कि जनता के अरमानों पर पानी नहीं फेरेंगे जनता की चाहत और जो सपना किछौछा के नगर वासियों ने देखा है उसे जरूर पूरा करेंगे यदि भाजपा पार्टी की तरफ से मेरी धर्मपत्नी किरन गुप्ता को अवसर प्रदान किया गया।

अब इंतजार है तो पार्टी के निर्णय का यदि पार्टी की तरफ से यह अवसर प्रदान किया गया तो किछौछा नगर पंचायत की तकदीर और तस्वीर जरूर बदलेगी किछौछा नगर के नगर वासियों का सपना जरूर पूरा होगा।

पूरी खबर देखें

संबंधित खबरें

Back to top button
error: Sorry! This content is protected !!

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker